Jan Dhan खाताधारकों को झटका! ये गलती की तो लगेगा जुर्माना, पैसा निकालते समय रखें ध्यान

0

नई दिल्ली: Jan Dhan Account: देश के हर नागरिक के पास उसका बैंक अकाउंट हो, इसी मकसद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जन-धन योजना की शुरुआत की थी. 
जिसमें जीरो बैलेंस पर खाता खुलवाया जा सकता है. इस योजना के कई फायदे हैं. जैसे- इसपर 10 हजार रुपये की ओवरड्राफ्ट सुविधा दी जाती है साथ ही 1 लाख रुपये का दुर्घटना बीमा भी मिलता है. इस योजना के तहत आप पोस्ट ऑफिस और किसी भी सरकारी या प्राइवेट बैंक में जीरो बैलेंस खाता खुलवा सकते हैं.

जन-धन खाताधारक हो जाएं सावधान!

लेकिन जनधन खाताधारकों को एक मामले में सावधान रहने की जरूरत है. हालांकि बैंक्स जीरो बैलेंस होने की वजह से खाताधारकों से कोई चार्ज वसूल नहीं करते हैं, मगर ट्रांजैक्शन एक तय लिमिट से ज्यादा होने पर अलग से फीस ली जाती है. इसका खुलासा IIT Bombay की एक रिपोर्ट से हुआ है. जिसमें ये दावा किया जा रहा है कि बैंक्स बेसिक सेविंग्स बैंक डिपॉजिट अकाउंट्स (BSBD) खाताधारकों से जुर्माना वसूल रहे हैं. 

कितना लग रहा जुर्माना 

आपको बता दें कि जनधन योजना के तहत बेसिक सेविंग्स बैंक डिपॉजिट अकाउंट्स (BSBD) खोला जाता है. इन खातों में बैंक्स आपको चार बार ही मुफ्त लेन देन की सुविधा देते हैं. इसके बाद किसी भी लेन-देन पर आपको प्रति ट्रांजैक्शन 20 रुपये तक का जुर्माना लगाते हैं. इसमें बैंक UPI या किसी और डिजिटल तरीके से की गई लेन-देन को भी शामिल करते हैं. 

जन-धन खातों पर RBI के नियम 

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के मुताबिक बैंकों को इस तरह के चार्ज नहीं लेना चाहिए. लेकिन बैंक्स अपनी मनमानी वसूली कर रहे हैं. इस बात का खुलासा आईआईटी बॉम्बे के एक प्रोफेसर की रिपोर्ट में हुआ है. इसलिए अगर आप भी जनधन खाताधारक हैं तो आगे से इस बात का ध्यान रखें और सोच समझ कर ही लेन-देन करें.

बैंक्स ले रहे 20 रुपये तक जुर्माना 

IIT बॉम्बे की रिपोर्ट में बताया गया है कि देश के सबसे बड़े बैंक SBI प्रति लेन-देन 17.70 रुपये वसूल रहा है. स्टेट बैंक ने वित्त वर्ष 2014-15 से 2019-20 तक 5 सालों के दौरान करीब 12 करोड़ जन-धन खाताधारकों से लगभग 300 करोड़ रुपये वसूले हैं. इसी तरह भारत के दूसरे सबसे बड़े सरकारी बैंक पंजाब नेशनल बैंक ने 3.9 करोड़ जन-धन खाताधारकों से इसी अवधि के दौरान 9.9 करोड़ रुपये वसूले हैं. 

42 करोड़ जन-धन खाते हैं

मौजूदा वक्त में जनधन खातों की संख्या 42 करोड़ से ज्यादा हो चुकी है. इनमें सरकारी बैंकों में 33.23 करोड़, क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों में 7.52 करोड़ और प्राइवेट बैंकों में 1.25 करोड़ खाते खुले हैं. कुल जनधन खाताधारकों में महिलाओं की संख्या 23.27 करोड़ है. 

10,000 रुपये की ओवरड्राफ्ट सुविधा

अगर आपके पास जनधन खाता है तो आप जरूरत के वक्त 10 हजार रुपये निकाल सकते हैं, भले ही आपके खाते में बैलेंस जीरो हो, इसे ओवरड्राफ्ट कहते हैं, इसे ऐसे समझ लीजिए कि ये एक छोटी अवधि का लोन होता है. पहले जनधन योजना में ओवरड्राफ्ट की लिमिट 5000 रु थी, जो अब 10000 रुपये हो चुकी है. जनधन खाताधारकों को सरकार एक रुपे डेबिट कार्ड भी देती है. 

Share.

About Author

Leave A Reply