कोविड बेड के लिए अस्‍पताल नहीं, ‘वार रूम्‍स’ के जरिये होगा आवंटन : मुंबई के लिए योजना

0

मुंबई:

New corona cases In Mumbai: महानगर मुंबई में कोविड-19 केसों में आए उछाल के बीच बृहन्‍नमुंबई म्‍युनिसिपल कार्पोरेशन (BMC) ने अस्‍पतालों में बेड की संभावित कमी दूर करने के लिए तैयारी शुरू कर दी है. कोविड-19 मरीजों के लिए न केवल बेड की संख्‍या बढ़ाई जा रही है बल्कि अब ऐसे मरीजों के लिए अधिक बेड रिजर्व रखे जा रहे हैं. प्राइवेट अस्‍पतालों में सभी आईसीयू बेड और कुल कोविड बेड के 80 फीसदी को स्‍थानीय निकाय के ‘वार्ड वार रूम्‍स’ के अंतर्गत केंद्रीयकृत अलाटमेंट के लिए रिजर्व रखा जाएगा. इस सप्‍ताह के आखिर तक मुंबई में कोरोना संक्रमित मरीजों के लिए करीब 7000 बेड उपलब्‍ध कराने का लक्ष्‍य रखा गया है, इन मरीजों को अस्‍पताल में भर्ती कराने की जरूरत पड़ सकती है. सोमवार को मुंबई में कोरोना के 5,888 नए केस दर्ज किए गए जबकि 12 लोगों की मौत कोरोना संक्रमण के चलते हुई. महाराष्‍ट्र देश का कोरोना से सबसे ज्‍यादा प्रभावित राज्‍य है.

BMC की ओर से जारी सर्कुलर में कहा गया है, ‘मुंबई के निजी अस्‍पतालो में तत्‍काल प्रभाव से कोरोना मरीजों से लिए 2269 बेड, इसमें 360 ICU शामिल, बढ़ाए जाएंगे.’ BMC कमिश्‍नर इकबाल सिंह ने न्‍यूज एजेंसी ANI को बताया, ‘अस्‍पतालों की ओर से कोई भी बेड सीधे आवंटित नहीं किया जा सकेगा. हॉस्पिटल बेड्स के सभी अलॉटमेंट केवल 24 वार्ड वार रूम्‍स के जरिये किए जाएंगे, इसलिए किसी को भी टेस्टिंग लैब से सीधे पॉ‍जिटिव कोविड रिपोर्ट हासिल करने की कोशिश नहीं करनी चाहिए.’ गौरतलब है कि नए बेड उन 3000 बेड्स के अतिरिक्‍त होंगे जो इस समय मुंबई में कोविड-19 पेशेंट्स के लिए उपलब्‍ध है. इन 3000 बेड्स में से 450 प्राइवेट हॉस्पिटल्‍स में हैं. 

गौरतलब है कि महाराष्‍ट्र में कोरोना के केसों में इजाफे के बीच मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे(Uddhav Thackrey) ने रविवार को कोविड टॉस्क फोर्स के सदस्यों के साथ बैठक की थी. सूत्रों के मुताबिक,  बैठक में सीएम ठाकरे ने कहा कि कोरोना प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन नही हो रहा है, इसलिए लॉकडाउन (Maharashtra Lockdown) की तैयारी करें.सरकार ने मंत्रालय और सरकारी कार्यालयों में आम जनता के प्रवेश पर पाबंदी का निर्देश भीदिया है. बैठक में मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे, स्वास्थ्य मंत्री डॉ राजेश टोपे, मुख्य सचिव सीताराम कुंटे, टॉस्कफोर्स से जुड़े वरिष्ठ डॉक्टर और सरकार के बड़े अधिकारी उपस्थित थे. स्‍वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने कहा कि अगर लोग नियमों का पालन नही कर रहे हैं तो हम लॉकडाउन की तरफ बढ़ रहे हैं.स्वास्थ्य प्रधान सचिव डॉ प्रदीप व्यास ने बताया कि वर्तमान में 3 लाख 75 हजार आइसोलेशन बेड में से 1 लाख 7 हजार भर चुकी हैं, बाकी भी तेजी से भर रहे हैं.

Share.

About Author

Leave A Reply