अगले कुछ सत्रों में डॉलर के मुकाबले 77 के स्तर तक गिर सकता है रुपया : रिपोर्ट

0

रेटिंग एजेंसी केयर रेटिंग्स ने कहा है कि विदेशी निवेशकों की भारी मांग के चलते डॉलर की खरीदारी जारी रहेगी, जिससे भारतीय रुपया अगले कुछ सत्रों के दौरान डॉलर के मुकाबले 77 के स्तर तक गिर सकता है। इस बीच फिच सॉल्युशंस ने कहा कि उसकी भविष्यवाणी है कि भारतीय रुपया 2020 में अमेरिकी डॉलर के मुकाबले औसतन 77 के स्तर पर रह सकती है और 2021 में इसके 80 के स्तर पर रहने का अनुमान है। रुपया पहले ही डॉलर के मुकाबले 76 के स्तर तक कमजोर हो चुका है। रुपया सोमवार को डॉलर के मुकाबले रिकॉर्ड 76.3 के निचले स्तर तक जा गिरा था और यह 76.20 के भाव पर बंद हुआ। इसके बाद मंगलवार को रुपया 18 पैसे की बढ़त के साथ 76.02 पर खुला। केयर रेटिंग्स ने अपनी टिप्पणी में कहा, “रुपया इस समय 76 रुपये प्रति डॉलर के स्तर पर है और अगला परीक्षण का स्तर 77 होगा, जिसके जल्दी आने काअनुमान है। ऐसा वैश्विक कारणों के चलते है क्योंकि डॉलर की मांग अधिक है और अन्य मुद्राएं कमजोर हो रही
हैं।” इसमें कहा गया कि भारतीय रिजर्व बैंक कि प्रतिक्रिया बिक्री-खरीद स्वैप के जरिए बैंकों को डॉलर उपलब्ध कराकर बुनियादी पक्ष की ओर अधिक है। रेटिंग एजेंसी ने कहा कि इस उतार-चढ़ाव में डॉलर की आपूर्ति मुख्य चिंता का विषय नहीं होगी। टिप्पणी में कहा गया कि नब्ज विदेशी संस्थागत निवेशकों के हाथ में होगी क्योंकि अगर वे बिक्री जारी रखेंगे और बाजार में निराशा बनी रही तो रुपये में गिरावट का रुख जारी रहेगा। इसके मुताबिक रिजर्ब बैंक के सीधे डॉलर की बिक्री से कुछ मदद मिल सकती है, लेकिन सिर्फ एक या दो दिन के लिए अस्थाई रूप से और उसके बाद बाजार में फिर अस्थिरता आ जाएगी|

Share.

About Author

Leave A Reply