सचिन तेंदुलकर के नाम जुड़ा एक और रिकॉर्ड, वर्ल्ड कप की जीत का वो पल बन गया सबसे यादगार

0

मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर को लॉरियस स्पोर्टिंग मोमेंट अवॉर्ड 2000-2020 (Laureus Sporting Moment Award 2000-2020) से सम्मानित किया गया है. अपने घर में वर्ल्ड कप-2011 जीतने के बाद सचिन तेंदुलकर को उनके साथियों ने कंधों पर उठा लिया था, जिसे पिछले 20 वर्षों में ‘लॉरियस सर्वश्रेष्ठ खेल क्षण’ माना गया. भारतीय क्रिकेट प्रशंसकों के समर्थन के साथ सचिन को विजेता बनने के लिए सबसे अधिक वोट मिले. अपना छठा और आखिरी वर्ल्ड कप खेल रहे सचिन तेंदुलकर का विश्व कप जीतने का सपना तब साकार हुआ था, जब कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने श्रीलंका के तेज गेंदबाज नुवान कुलसेकरा की गेंद पर छक्का जड़कर भारत को विजेता बनाया था. धोनी ने 79 गेंदों में 91 रन (8 चौके, दो छक्के) तो बनाए ही, साथ ही ‘बेस्ट फिनिशर’ की परिभाषा पर खरे उतरते हुए विजयी सिक्सर मारकर सबके दिलों को जीत लिया था.

2 अप्रैल 2011 को मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में टीम इंडिया के विजेता बनते ही सारे भारतीय खिलाड़ी मैदान में उतरे आए और सचिन तेंदुलकर को अपने कंधों पर उठा लिया. यह पल प्रशंसकों के लिए अविस्मरणीय है.

बर्लिन में पूर्व ऑस्ट्रेलियाई कप्तान स्टीव वॉ ने सोमवार को शानदार समारोह के दौरान लॉरियस स्पोर्टिंग मोमेंट अवॉर्ड-2000-2020 के विजेता की घोषणा की. टेनिस दिग्गज बोरिस बेकर ने तेंदुलकर को ट्रॉफी सौंपी.

Share.

About Author

Leave A Reply