CBSE ने SC/STऔर जनरल कटेगरी छात्रों की परीक्षा फीस बढ़ाई

0

नई फीस संशोधित मानदंडों के अनुसार, अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के छात्रों को पांच विषयों के लिए 1,200 रुपये का भुगतान करना होगा, जबकि पहले उन्हें उसके लिए 50 रुपये का भुगतान करना होता था। यानी उनके लिए फीस बढ़ोतरी 24 गुना बढ़ गई है। जनरल कटेगरी के छात्र जो पहले पांच विषयों के लिए 750 रुपये भुगतान करते थे, उन्‍हें अब 1500 रुपये भुगतान करना होगा।

अतिरिक्त विषय में उपस्थित होने पर देना होगा 300 रुपये कक्षा 12 बोर्ड परीक्षा में एक अतिरिक्त विषय के लिए उपस्थित होने के लिए अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के छात्रों को जो पहले कोई अतिरिक्त शुल्क नहीं देना होता था, उन्हें अब 300 रुपये का भुगतान करना होगा। सामान्य श्रेणी के छात्रों को भी अतिरिक्त विषय के लिए 300 रुपये का भुगतान करना होगा, पहले इसके लिए 150 रुपये का भुगतान करना होता था।

माइग्रेशन फीस भी बढ़ाई गई :
100 प्रतिशत दृष्टिहीन छात्रों को सीबीएसई परीक्षा शुल्क का भुगतान करने से छूट दी गई है। जो छात्र अंतिम तिथि से पहले सीबीएसई परीक्षा शुल्क के अंतर जमा करने में विफल रहते हैं, उनको रजिस्‍टर्ड नहीं किया जाएगा और उन्‍हें 2019-20 परीक्षा में उपस्थित होने की अनुमति नहीं दी जाएगी। माइग्रेशन फीस जो पहले 150 रुपये थी, उसे भी बढ़ाकर 350 रुपये कर दिया गया है।

विदेश में CBSE स्कूलों में भी बढ़ी फीस :
विदेश में CBSE स्कूलों में नामांकित छात्रों को कक्षा 10 और 12 दोनों के लिए पांच विषयों के लिए 10,000 रुपये का भुगतान करना होगा। पहले यह फीस 5000 रुपये थी। उनके लिए कक्षा 12 में एक अतिरिक्त विषय की फीस 2,000 रुपये तय की गई है, जबकि पहले यह फीस 1,000 रुपये थी।
CBSE ने स्‍पष्‍ट करते हुए बताया है कि बोर्ड परीक्षा की फीस पूरे भारत में बढ़ाई गई है, न की कि केवल दिल्‍ली में। फीस में यह बढ़ोतरी सीबीएसई से जुड़े भारत और विदेश के सभी श्रेणियों के छात्रों के लिए की गई है। शेष भारत के सभी छात्रों के लिए परीक्षा शुल्‍क को 750 रुपये बढ़ाकर 1500 रुपये कर दिया गया है।

Share.

About Author

Leave A Reply