ईरान ने यूक्रेन के विमान के जलने के बाद दुर्घटना की बात कही.

0

तेहरान, । यूक्रेन के जेटलाइनर विमान के दुर्घटनाग्रस्त होने के मामले में ईरान की प्रारंभिक जांच रिपोर्ट में गुरूवार को कहा गया कि विमान के चालक दल ने मदद के लिए कभी रेडियो संदेश नहीं भेजा और जब वे विमान को हवाई अड्डे की ओर लौटाने की कोशिश कर रहे थे तभी विमान जलता हुआ गिर गया। विमान दुर्घटना में 176 लोगों की मौत हो गई थी। इस बीच यूक्रेन ने कहा कि उसे दुर्घटना के संभावित कारणों में मिसाइल हमला या आतंकवाद नजर आता है। ईरान इससे इनकार कर रहा है। रिपोर्ट में कहा गया है कि यूक्रेन इंटरनेशन एयरलाइंस द्वारा संचालित बोइंग 737 अचानक अटक गया, जिसके कारण विमान तेहरान में इमाम खुमैनी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से उड़ान भरने के कुछ ही देर बाद नीचे गिर गया। ईरान के नागर विमानन संगठन के जांचकर्ताओं ने इस दुर्घटना के बारे में तत्काल कोई विस्तृत जानकारी नहीं दी। शुरू में ईरान के अधिकारियों ने घटना के लिए तकनीकी खामी को जिम्मेदार ठहराया। शुरू में यूक्रेन के अधिकारियों ने भी इसका समर्थन किया, लेकिन बाद में कहा कि वे जांच जारी रहने के बीच अटकल नहीं लगाएंगे। दुर्घटना से कुछ घंटे पहले ही ईरान ने इराक में अमेरिकी सैन्य ठिकानों पर मिसाइल हमले किये। अमेरिका और ईरान के बीच टकराव की स्थिति चल रही है। अमेरिका ने ईरान के रिवॉल्यूशनरी गार्ड जनरल कासिम सुलेमानी को पिछले सप्ताह ड्रोन हमले में मार गिराया था। यूक्रेन के विमान ने बुधवार सुबह 6:12 बजे उड़ान भरी थी। विमान ने तेहरान के इमाम खुमेनी एयरपोर्ट से करीब एक घंटे की देरी से उड़ान भरी। विमान पश्चिम की ओर करीब 8000 फुट की ऊंचाई पर पहुंच गया था। रिपोर्ट के अनुसार उड़ान भरते ही कुछ त्रुटि आई और पायलट को असामान्य स्थिति के संबंध में कोई रेडियो संदेश नहीं मिली। आपात स्थिति में पायलटों ने तत्काल वायु यातायात नियंत्रकों (एटीसी) से संपर्क साधा। पास से गुजर रहे एक अन्य विमान के चालक दल समेत चश्मदीदों के अनुसार सुबह 6:18 बजे विमान आग की लपटों से घिरा था और दुर्घटनाग्रस्त हो गया। दुर्घटनाग्रस्त होता हुआ विमान जब जमीन पर गिरा तो भारी विस्फोट हुआ। रिपोर्ट में इस बात की भी पुष्टि की गई कि दोनों तथाकथित ‘‘ब्लैक बॉक्स’’ जिनमें विमान के आंकड़े और कॉकपिट की जानकारी होती है, बरामद कर लिए गए हैं। वे क्षतिग्रस्त हैं और उनकी कुछ जानकारी नष्ट हो गई है। इसमें बताया गया है कि शुरूआती जांच के अनुसार दुर्घटना का कारण लेजर या विद्युत चुंबकीय प्रभाव नहीं है। यूक्रेन की सुरक्षा परिषद के सचिव ओलेकसी दानिलोव ने यूक्रेन के मीडिया को बताया कि दुर्घटना के संबंध में अधिकारियों के पास कई संभावित वजहें हैं जिनमें मिसाइल हमला भी एक है। उन्होंने कहा, ‘‘मिसाइल से हमला एक संभावित वजह है क्योंकि इंटरनेट पर दुर्घटना स्थल के पास मिसाइल के तत्व होने की जानकारी है।’’ हालांकि उन्होंने यह साफ नहीं किया कि इंटरनेट पर उन्होंने कहां यह जानकारी देखी। यूक्रेन के जांच अधिकारी गुरूवार को ईरान पहुंच गये। उन्हें ईरान के अधिकारियों से दुर्घटना स्थल का मुआयना करने की अनुमति का इंतजार है। यूक्रेन की टिप्पणियों पर ईरान ने तत्काल प्रतिक्रिया नहीं दी है। हालांकि फार्स समाचार एजेंसी ने बुधवार को ईरान सशस्त्र बलों के प्रवक्ता जनरल अबुलफजल शेकारची के हवाले से विमान पर मिसाइल हमले की बात को खारिज कर दिया। अधिकारियों ने बताया कि विमान में विभिन्न देशों के 167 यात्री और चालक दल के नौ सदस्य थे जिनमें से 82 ईरानी नागरिक, 63 कनाडाई और 11 यूक्रेन के नागरिक थे।इस बीच यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमिर जेलेंस्की ने अपने देश में गुरूवार को एक दिन के राष्ट्रीय शोक की घोषणा की और विमान दुर्घटना के पीछे सच का पता लगाने का संकल्प व्यक्त किया। उन्होंने अपने आधिकारिक फेसबुक अकाउंट पर डाले गये वीडियो संदेश में कहा, ‘‘नौ जनवरी को राष्ट्रीय शोक घोषित किया गया है।’’ उन्होंने कहा कि दुर्घटना और उसकी जांच को लेकर उनकी ईरान के राष्ट्रपति हसन रुहानी से बातचीत करने की योजना है। जेलेंस्की ने कहा, ‘‘निश्चित रूप से यूक्रेन के लिए प्राथमिकता विमान दुर्घटना के कारण का पता लगाना है। हम लोग निश्चित रूप से सच का पता लगाएंगे।’’ कनाडा के प्रधानमंडी जस्टिन ट्रूडो ने कहा कि 138 यात्री कनाडा जाने वाले थे… विमान में एक ही परिवार के चार लोग और नवविवाहित जोड़े भी थे। यात्रियों में कई किशोर भी थे और एक या दो साल से भी कम उम्र के कुछ बच्चे भी थे। कनाडा और अमेरिका दोनों ने विमान हादसे की पूर्ण जांच की मांग की है।

Share.

About Author

Leave A Reply