दिल्ली विस चुनाव शांतिपूर्ण और निष्पक्ष संपन्न कराने के लिए चाक चौबंद इंतजाम.

0


नई दिल्ली । दिल्ली विधानसभा के शनिवार को होने वाले मतदान को शांतिपूर्ण और निष्पक्ष
ढंग से संपन्न कराने के लिए सुरक्षा के चाक-चौबंद प्रबंध किए गये हैं। मतदान शनिवार को प्रात: आठ बजे शुरू
होगा और शाम छह बजे तक चलेगा। मतगणना 11 फरवरी को होगी। दिल्ली के मुख्य चुनाव अधिकारी रणबीर
सिंह के अनुसार मतदान निष्पक्ष और शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न कराने के लिए सुरक्षा के साथ-साथ पर्याप्त संख्या में
कर्मचारियों को तैनात किए जाने के इंतजाम किए गये हैं। श्री सिंह के अनुसार मतदान निष्पक्ष संपन्न कराने के
लिए 1000024 कर्मचारी चुनाव ड्यूटी पर तैनात किए गये हैं। सुरक्षा इंतजामों के संबंध में श्री सिंह ने कहा कि
दिल्ली पुलिस के 38 हजार 874 और होम गार्ड के 19 हजार जवान तैनात किए जायेंगे। इसके अलावा बड़ी
संख्या में अर्द्धसैनिक सुरक्षा बलों की तैनाती भी की जायेगी। दिल्ली चुनाव अधिकारी कार्यालय से प्राप्त आंकड़ों के
अनुसार राजधानी की कुल जनसंख्या दो करोड़ 14 लाख तीन हजार 686 है। इनमें पुरुषों की संख्या एक करोड़
78 लाख तीन हजार 804 और महिलाओं की (अन्य को मिलाकर) 93 लाख 59 हजार 882 है। इस बार कुल
एक करोड़ 47 लाख 86 हजार 382 वोटर हैं जिनमें से 132 मतदाता 100 या इससे अधिक आयु के हैं।
वयोवृद्ध मतदाताओं को ‘वीआईपी’ मतदाता के रूप में वोट डालने की सुविधा मुहैया कराई जायेगी। वयोवृद्ध
मतदाताओं में पुरुष 68 और महिला मतदाता 64 हैं। सबसे वृद्ध मतदाता ग्रेटर कैलाश की चितरंजन पार्क निवासी
110 वर्षीय महिला कालीतारा मंडल हैं। कुल मतदाताओं में पुरुष वोटरों की संख्या 81 लाख पांच हजार 236 और
महिला मतदाता 66 लाख 80 हजार 277 हैं। किन्नर मतदाता 869 हैं। सभी मतदाताओं को मतदाता पहचान
पत्र जारी किए जा चुके हैं। प्रवासी मतदाताओं की संख्या 498 और सेवा से जुड़े मतदाताओं की संख्या 11 हजार

608 है। अस्सी वर्ष से अधिक के मतदाताओं की संख्या दो लाख चार हजार 830 हैं। दिव्यांग मतदाता 50 हजार
473 हैं। व्हील चेयर मतदाताओं की संख्या 3875 है। दिव्यांग मतदाताओं को मतदान में सुविधा के लिए नो
हजार 997 वालंटियर तैनात किए जायेंगे। कुल मतदाताओं में 18 से 25 आयु वर्ग के 17 लाख 34 हजार 565
मतदाता हैं जिनमें पुरुष 10 लाख 823, महिला सात लाख 33 हजार 514 और अन्य 228 हैं। पच्चीस से 40
वर्ष आयु वर्ग के 62 लाख 36 हजार 46 मतदाताओं में पुरुष 3426905 और महिला 28 लाख नौ हजार 141
है। इस वर्ग में अन्य मतदाता 418 है। चालीस से 60 वर्ग आयु के 49 लाख 62 हजार 823 मतदाताओं में 27
लाख 28 हजार 303 पुरुष और 22 लाख 34 हजार 342 महिला मतदाता हैं जबकि अन्य 178 हैं। साठ वर्ष से
ऊपर 18 लाख 52 हजार 948 मतदाताओं में पुरुष नौ लाख 49 हजार 623 और महिलाएं नौ लाख तीन हजार
280 तथा अन्य 45 हैं।श्री सिंह ने बताया कि कुल मतदान केंद्रों की संख्या 13570 है जो 2688 स्थानों पर
स्थित है। संवेदनशील मतदान केंद्रों की संख्या 3141 है। खर्चे से जुड़े संवेदनशील पाकेट्स की संख्या 102 है।
चुनाव संपन्न कराने के लिए 34 हजार 222 बीयू, 18 हजार 765 सीयू और 20 हजार 385 वीवीपैट का
इस्तेमाल किया जायेगा। चुनाव में कुल 672 उम्मीदवार हैं जिनमें पुरुष 593 और महिला प्रत्याशी 79 हैं। तेईस
विधानसभा सीटों पर कोई भी महिला प्रत्याशी चुनाव मैदान में नहीं है। आम आदमी पार्टी (आप) ने सभी 70 सीटों
पर उम्मीदवार खड़े किए हैं। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने 66 और कांग्रेस ने भी इतनी ही सीटों पर उम्मीदवार
उतारे हैं। विधानसभा चुनाव के लिए भाजपा का नीतिश कुमार की पार्टी जनता दल यूनाइटिड और चिराग पासवान
की लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) के साथ समझौता है। कांग्रेस का लालू प्रसाद की राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के
साथ गठबंधन है। मायावती की बहुजन समाजपार्टी (बसपा) ने 68 सीटों पर उम्मीदवार खड़े किए हैं। भारतीय
कम्युनिस्ट पार्टी (भाकपा) और मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) ने तीन-तीन उम्मीदवार उतारे हैं। शरद पवार
की राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) पांच सीटों पर चुनाव लड़ रही है। पंजीकृत राजनीतिक दलों के 243 और 148
निर्दलीय उम्मीदवार हैं। सबसे कम मतदाता चांदनी चौक में एक लाख 25 हजार 684 और सर्वाधिक मटियाला में
चार लाख 23 हजार 682 हैं। सबसे कम क्षेत्र फल वाली विधानसभा सीट बल्लीमारान 2.50 वर्ग किलोमीटर और
सर्वाधिक क्षेत्रफल वाली नरेला 143.42 वर्ग किलोमीटर है। नई दिल्ली सीट जहां से मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल
लगातार तीसरी बार चुनाव मैदान में हैं सबसे अधिक 28 उम्मीदवार हैं। श्री केजरीवाल की मुख्य टक्कर भाजपा के
सुनील यादव और कांग्रेस के रमेश सब्बरवाल से है। सबसे कम चार प्रत्याशी पटेल नगर सीट से हैं।

Share.

About Author

Leave A Reply