सालों से चल रहे तूतीकोरिन वेदांता कॉपर प्लांट पर हिंसक हुआ प्रदर्शन

0

तमिलनाडु के तूतीकोरिन में वेदांता समूह की कंपनी स्टरलाइट को बंद करने की मांग को लेकर हिंसक प्रदर्शन हुआ। इसमें मरने वालों की संख्या 12 तक पहुंच गई है। संवेदनशील स्थल पर धारा 144 लागू कर दी गई है। वहीं, सुरक्षाकर्मियों की तैनाती भी की गई है। स्टरलाइट यूनिट (कॉपर प्लांट) से हो रहे प्रदूषण के खिलाफ पिछले 100 दिनों से प्रदर्शन कर रहे थे। मंगलवार को ये प्रदर्शन हिंसक हो गया। लोगों ने प्रदुषण के खिलाफ जमकर प्रदर्शन किया। पुलिस ने उग्र भीड़ को नियंत्रित करने के लिए लाठियां चलाई। जब भीड़ शांत नहीं हुई तो पुलिस ने फायरिंग की। इसमें 12 प्रदर्शनकारियों की मौत हो गई। वहीं, 60 घायल हो गए।

बता दें कि तूतीकोरिन में 1998 से कॉपर यूनिट चल रही है। इसके चलते प्रदुषण में बढ़ोत्तरी होती है। यहीं कारण है कि इस यूनिट से होने वाले प्रदूषण के खिलाफ लोग लंबे समय से प्रदर्शन करते आ रहे थे। लोगों का आरोप है कि स्थानीय प्रशासन, पुलिस और तमिलनाडु प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने नियमों को ताक पर रखकर जनता के साथ छल किया और पैसों के लिए वेदांता की मदद की।

इस प्लांट से मार्च 2013 में गैस भी लीक हुई थी, इसके बाद जयललिता ने इसे बंद करने का भी आदेश दिया था। लेकिन ऐसा नहीं हुआ। इसके बाद राज्य सरकार ने मिलनाडु प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (टीएनपीसीबी) से पिछले साल पर्यावरण नियमों का पालन नहीं करने के लिए कंपनी को रिन्यूअल न देने की अपील की। इस अपील के खिलाफ आगामी 6 जून हो सुनवाई होनी बाकी है। लोगों के विरोध के बावजूद कंपनी ने इसी मार्च में 4 लाख टन सालाना स्टरलाइट कॉपर प्रोजेक्ट का ऐलान किया। इसके बाद स्थानीय लोग और भड़क गए। लोग स्टरलाइट इंडस्ट्रीज को बंद कराने के लिए सड़कों पर उतर आए। तभी अचानक यह मार्च हिंसक हो गया।

Share.

About Author

Leave A Reply