22 साल बाद 172 सांसदों और 32% वोटों पर प्रभाव रखने वाले 11 लीडर एक मंच पर

0

बेंगलुरु.कर्नाटक में जेडीएस नेता एचडी कुमारस्वामी सीएम पद की शपथ लेने जा रहे हैं। समारोह में यूपीए चेयरपर्सन सोनिया गांधी, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, पांच राज्यों के सीएम और तमिलनाडु से डीएमके नेता एम के स्टालिन, अखिलेश यादव, मायावती और तेजस्वी यादव शामिल हो सकते हैं। माना जा रहा है कि इतने बड़े नेताओं का इकट्ठा होना 2019 के लिए शक्ति प्रदर्शन है। 22 साल बाद 172 सांसदों और 32 प्रतिशत वोटों पर प्रभाव रखने वाले ये 11 लीडर्स लोकसभा चुनाव में एक साथ आ सकते हैं। इससे पहले इतने लीडर्स 1996 में बीजेपी की अटल सरकार गिराने के लिए एक साथ आए थे। उस वक्त 14 पार्टियों ने मिलकर एच.डी देवगौड़ा को प्रधानमंत्री बनवाया था। कर्नाटक में जेडीएस से मिलकर कांग्रेस वैसा ही कुछ गणित बैठाना चाह रही है। जिससे साउथ इंडिया में बीजेपी को रोका जा सके। बता दें कि 19 मई को फ्लोर टेस्ट से पहले ही ढाई दिनों तक सीएम रहे येदियुरप्पा ने इस्तीफा दे दिया। जिसके बाद राज्यपाल ने कांग्रेस-जेडीएस को सरकार बनाने का न्योता दिया। कर्नाटक चुनाव में बीजेपी को 104, कांग्रेस को 78 और जेडीएस को 37 सीटें मिली हैं।

पांच राज्यों के CM हो सकते हैं शामिल

एच.डी. कुमारस्वामी को आज शाम चार बजे राज्यपाल वजुभाई वाला सीएम पद की शपथ दिलाएंगे। समारोह में यूपीए चेयरपर्सन सोनिया गांधी, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, बीएसपी अध्यक्ष मायावती, सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव शामिल होंगे। इनके अलावा समारोह में पांच राज्यों के सीएम भी शामिल हो सकते हैं। जिसमें दिल्ली के सीएम(आप) अरविंद केजरीवाल, पश्चिम बंगाल की सीएम(तृणमूल) ममता बनर्जी, आंध्र प्रदेश के सीएम(टीडीपी) चंद्रबाबू नायडू, केरल के सीपीएम(CPIM) पी विजयन और तेलंगाना सीएम ( तेलंगाना राष्ट्र समिति,TRS) के. चंद्रशेखर राव शामिल हो सकते हैं। कुमारस्वामी ने इनके अलावा लालू यादव के बेटे तेजस्वी यादव, आरएलडी के संस्थापक अजीत सिंह, कमल हसन और तमिलनाडु में डीएमके नेता एम के स्टालिन शामिल हो सकते हैं।

Share.

About Author

Leave A Reply