पिछले छह महीने में मुश्किल समय का सामना करना पड़ा: श्रीकांत.

0


नई दिल्ली । दिग्गज बैडमिंटन खिलाड़ी किदांबी श्रीकांत ने गुरुवार को कहा कि चोटों और
फार्म में गिरावट के कारण पिछले छह महीने में मुश्किल समय का सामना करने के बाद वह तोक्यो ओलंपिक से
पहले फार्म और फिटनेस हासिल करने की कोशिश करेंगे। इस मुश्किल समय के दौरान दुनिया का पूर्व नंबर एक
खिलाड़ी बीडब्ल्यूएफ की रेस टू तोक्यो रैंकिंग में 26वें स्थान पर खिसक गया। यह 26 वर्षीय खिलाड़ी हालांकि
ओलंपिक के लिए क्वालीफाई करने को लेकर प्रतिबद्ध है। श्रीकांत ने कहा, ‘‘मैं ओलंपिक में हिस्सा लेना चाहता हूं
और अच्छा प्रदर्शन करना चाहता हूं। मुझे पता है कि पिछले छह महीने में मुझे मुश्किल समय का सामना करना
पड़ा है लेकिन मैं पूर्ण फिटनेस हासिल करने और अच्छा प्रदर्शन करने को लेकर उत्सुक हूं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘मुझे
लगता है कि भारतीय बैडमिंटन टीम के पास ओलंपिक में बेहद अच्छा प्रदर्शन करने का काफी अच्छा मौका है अगर
हम टूर्नामेंट के दौरान अपने प्रदर्शन में निरंतरता लाते हैं तो।’’श्रीकांत ने भारतीय बैडमिंटन के स्तर में सुधार का
श्रेय पुलेला गोपीचंद को देते हुए कहा कि इतने सारे चैंपियन तैयार करने का श्रेय सिर्फ राष्ट्रीय कोच को जाता है।
गोपीचंद के मार्गदर्शन में ही भारत ने ओलंपिक पदक विजेता साइना नेहवाल और पीवी सिंधू को तैयार किया है।
श्रीकांत ने कहा, ‘‘भारत में बैडमिंटन की प्रगति का श्रेय मैं गोपीचंद सर को दोना चाहता हूं। उन्होंने अपनी
अकादमी में इतने सारे चैंपियन खिलाड़ी तैयार किए। उन्होंने इतना अच्छा बुनियादी ढांचा तैयार किया जबकि एक
समय ऐसा कुछ नहीं था।’’ राष्ट्रमंडल खेलों के स्वर्ण पदक विजेता श्रीकांत ने भारत सरकार के खेलो इंडिया
कार्यक्रम की भी सराहना की।

Share.

About Author

Leave A Reply